सऊदी अरब को अंजाम भुगतने की धमकी देने के बाद कैसे घुटने पर आया सुपरपावर अमेरिका

 अमेरिका ने सऊदी अरब के खिलाफ दी धमकी को वापस ले लिया है

तीन महीने पहले अक्टूबर 2022 को याद करिए. 

अमेरिका की एक बेमिसाल दोस्त देश सऊदी अरब से तनातनी सुर्खियों में थी.

ओपेक प्लस समूह में रूस भी एक सदस्य है. 

ओपेक समूह के इस निर्णय को रूस समर्थित निर्णय का आरोप लगाते हुए अमेरिका ने कड़ी प्रतिक्रिया दी थी.

राष्ट्रपति बाईडेन ने सऊदी अरब को चेतावनी देते हुए कहा था कि सऊदी अरब को इसके गंभीर परिणाम भुगतने होंगे 

लेकिन अब सऊदी अरब के प्रति अमेरिका का नरम रुख सबके सामने आया है।