Health Insurance in Hindi (हेल्थ इन्शुरन्स की जानकारी हिन्दी में)

वर्तमान दिनचर्या और जीवनशैली अनेकों प्रकार की नई तथा पुरानी बीमारियों को बुलावा देती है। बीमारियाँ बता कर नहीं आती है और आजकल के जीवन में जोखिम हर कार्य में होता है, ऐसे में एक हेल्थ इन्शुरन्स पालिसी का होना अत्यन्त आवश्यक है। तो जानते है Health Insurance in Hindi.

बीमारियाँ असीमित तथा इलाज के संसाधन सीमित है अतः किसी बीमारी पर होने वाला खर्च अत्यन्त अधिक होता है जो एक निम्न अथवा औसत वर्ग के परिवार के लिए वहन करना नामुमकिन सा होता है। प्राइवेट अस्पताल पर होने वाले खर्च किसी आम आदमी की कमर तोड़ सकते है। 

अतः एक Health Insurance आपको एवं आपके परिवार को अस्पताल के खर्चों या किसी दुर्घटना/ गंभीर बीमारी के समय आर्थिक सुरक्षा प्रदान करती है।

Table of Contents

हेल्थ इन्शुरन्स क्या है? What is Health Insurance in Hindi?

health-insurance-in-hindi
img source: canva

हेल्थ इन्शुरन्स अर्थात स्वास्थय बीमा आपको और आपके परिवार को गंभीर बीमारियों, चोट, एक्सीडेंट आदि पर होने वाले खर्चों पर फाइनेंशियल कवरेज प्रदान करती है, हालाकिं आपको इस तरह के लाभ के लिए हर महीने अथवा साल में कुछ भुगतान करते रहना होता है। 

यह एक बीमाधारक तथा बीमा कम्पनी के बीच अनुबंध है, जो स्वास्थय सम्बन्धी इलाज के दौरान मँहगी और अप्रत्याशित लागतो से बीमाधारक को सुरक्षा प्रदान करता है। हेल्थ इन्शुरन्स स्कीम अस्पताल में भर्ती होने, उपचार, सर्जरी, दवा आदि से सम्बन्धित खर्चे की प्रतिपूर्ति बीमा कम्पनी द्वारा की जाती है। 

हेल्थ इन्शुरन्स (Health Insurance in Hindi)पालिसीधारक को कैशलेस चिकित्सा अथवा वापसी भुगतान का लाभ होता है। 

हेल्थ पालिसी आप स्वंय, अपने पति अथवा पत्नी, आश्रित माता- पिता, बच्चो समेत परिवार के अन्य सदस्यों के लिए ले सकते हैं।

हेल्थ इन्शुरन्स के प्रकार- Types of Health Insurance in Hindi

img source : canva

Health Insurance एक व्यक्ति की हर तरह की आवश्कता को ध्यान में रखकर बनायी जाती है। विभिन्न परिस्थितयों तथा व्यक्तियों के लिए भिन्न-भिन्न प्रकार के हेल्थ पालिसी होती है।

1. व्यक्तिगत हेल्थ इन्शुरन्स

व्यक्तिगत स्वास्थय बीमा में बीमाधारक को कैशलेस अस्पताल का खर्च, पूर्व और बाद में अस्पताल में होने वाले खर्चों का मुआवजा, अधिवास उपचार कवरेज, वापसी भुगतान आदि का लाभ मिलता है। निजी हेल्थ पालिसी ऐड-आन-कवर तथा कम प्रीमियम पर मिल जाती है।

2. फैमिली हेल्थ इन्शुरन्स(Family Health Insurance in Hindi)

इस तरह की पालिसी में बीमाधारक के पूरे परिवार को एक ही प्रीमियम भुगतान पर हेल्थ इन्शुरन्स कवरेज प्राप्त होता है। इसमें बीमाधारक के साथ उसके परिवार को कोई भी सदस्य बीमा की अवधि के दौरान किसी बीमारी के इलाज पर आर्थिक मदद प्राप्त करता है।

3. वरिष्ठ नागरिक हेल्थ इन्शुरन्स

यह Health Insurance 60 वर्ष तथा उससे अधिक आयु के लोगो के लिए कवरेज प्रदान किया जाता है। इस पालिसी के तहत सभी प्रकार के अस्पताल के खर्चे तथा धारा 80D के तहत कर में छूट शामिल है।

4. गंभीर बीमारी स्वास्थय योजना

गंभीर बीमारी स्वास्थय बीमा पालिसी गंभीर बीमारियों जैसे किडनी ट्रांसप्लांट, पैरालिसिस, कैंसर, दिल का दौरा आदि को कवर करती है। यह पालिसी राइडर या एकल योजना के रूप में खरीदी जाती है और एक निश्चित राशि पहले से निर्दिष्ट की जाती है जिसका एकमुश्त भुगतान बीमा कंपनी द्वारा किया जाता है। इस पालिसी के तहत बीमाधारक को बीमारी निदान के पश्चात एक निर्धारित अवधि तक जिंदा रहना होता है।

5. प्रसूति स्वास्थय बीमा योजना(Hindi Insurance in Hindi)

प्रसूति स्वास्थय बीमा योजना के तहत बीमाधारक को मातृत्व के सारे खर्चे का कवरेज मिलता है। कुछ बीमा कंपनिया नवजात को लगने वाले टीकों का कवरेज भी प्रदान करते है। 

6. कोरोनावायरस आरोग्य बीमा योजना

IRDAI द्वारा कोरोना जैसी घातक बीमारी के इलाज के लिए दो इन्शुरन्स योजनाओं का प्रारम्भ किया गया– कोरोना कवच हेल्थ प्लान तथा कोरोना रक्षक हेल्थ इन्शुरन्स प्लान। 

कोरोना कवच एक फैमिली हेल्थ इन्शुरन्स प्लान है जबकि कोरोन रक्षक एक अकेल व्यक्ति के लिए इन्शुरन्स प्लान है। इसमे कोरोना बीमारी से इलाज के सभी खर्चे बीमा कम्पनी द्वारा वहन किये जाते है।

7. यूनिटलिंक्ड स्वास्थय बीमा पालिसी

यूनिटलिंक्ड स्वास्थ्य बीमा पालिसी (ULHP) बीमा और निवेश का एक अद्भुत मेलजोल है, साथ ही यह एक कोष बनाने में मदद करता है जहाँ आप धीरे-धीरे पैसे एकत्रित करते है और ऐसे खर्चों को कवर कर सकते हैं जो हेल्थ इन्शुरन्स में शामिल नही होते हैं।

8. समूह आरोग्य बीमा योजना

इस योजना के तहत विभिन्न कंपनियाँ अपने कर्मियों को हेल्थ इन्शुरन्स प्रदान करती है, जिससे वह कर्मी या उसका परिवार विभिन्न प्रकार की बीमारियों के इलाज के लिए आर्थिक मदद प्रदान करती है। इस तरह की स्कीम पर किसी तरह के प्रीमियम के भुगतान की जरूरत नहीं होती है।

9. निजी एक्सीडेंटल कवर

इस योजना के तहत व्यक्ति को यदि अपघात से कोई विकलांगता या मृत्यु होती है तो उसे आर्थिक मदद तथा इलाज के लिए आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है। 

हेल्थ इन्शुरन्स खरीदने के लिए आवश्यक दस्तावेज

health-insurance-in-hindi
img source: canva
  1. न्यू इन्शुरन्स पालिसी के लिए
  • विधिवत भरा हुआ पालिसी फार्म
  • पूर्व में रही बीमारियों की चिकित्सा जानकारी
  1. इन्शुरन्स पालिसी रिन्यू के लिए
  • समाप्त हुई पालिसी का पालिसी नम्बर
  • पूर्व में रही बीमारियों की चिकित्सा जानकारी
  1. इन्शुरन्स पालिसी पोर्ट कराने हेतु
  • निवास प्रमाण
  • आईडी प्रूफ
  • पिछली पालिसी के दस्तावेज
  • पूर्व में रही बीमारियों की चिकित्सा जानकारी
  1. आयु पात्रता
  • 18 से 65 वर्ष के बीच की आयु के व्यक्ति हेल्थ इन्शुरन्स ले सकते है।
  • बच्चो के केस में, 90 दिन से 25 वर्ष तक की आयु के बच्चे स्वास्थय बीमा ले सकते है।
  • 60 वर्ष से अधिक आयु के लोग सीनियर सिटीजन के लिए बनायी गयी पालिसी ले सकते है।

हेल्थ इन्शुरन्स प्रीमियम के भुगतान पर टैक्स छूट(Health Insurance in Hindi)

health-insurance-in-hindi
img source: canva

(Health Insurance in Hindi )आपको मेडिकल कवरेज तो प्रदान करता ही है साथ ही साथ बीमाधारक को इनकम टैक्स एक्ट 1961, की धारा 80D, के तहत इन्शुरन्स के प्रीमियम भुगतान पर टैक्स में छूट मिलती है।

प्रीमियम भुगतान पर मिलने वाली यह छूट आपकी उम्र पर निर्भर करती है, अगर आपकी उम्र 60 वर्ष से कम है तो आपको 25000 रूपये तक कर में छूट मिलती है और अगर आपकी उम्र 60 वर्ष से अधिक है तो आपको 50000 रूपये तक कर में छूट मिलती है।

क्लेम सेटलमेंट Health Insurance In Hindi

हेल्थ इन्शुरन्स क्लेम कैसे करें (क्लेम सेटलमेंट)
img source: canva

यदि आपने हेल्थ स्कीम ले रखी है तो आप इलाज के दौरान दो तरीकों से क्लेम सेटलमेंट प्रासेस कर सकते है। 

कैशलेस क्लेम प्रक्रिया

  1. नियोजित अस्पताल में भर्ती होने पर
    1. आपको अस्पताल में भर्ती होने के 48 से 72 घण्टे के अन्दर बीमाकर्ता कम्पनी को सूचित करना होता है।
    2. बीमा कम्पनी आपको एक पुष्टिकरण पत्र प्रदान करेगी।
    3. अब, आप अपना हेल्थ कार्ड और पुष्टिकरण पत्र अस्पताल में जमा कर दें।
    4. बीमाकर्ता कम्पनी सभी प्रकार के बिलों का भुगतान सीधे अस्पताल को कर देगा।
  2. आपातकालीन अस्पताल में भर्ती होने पर
    1. आपको अस्पताल में भर्ती होने के 24 घण्टे से पहले बीमाकर्ता कम्पनी को सूचित करना होता है।
    2. कैशलेश क्लेम फार्म को भरें तथा सबमिट कर दें।
    3. फार्म के साथ अन्य जरूरी डाक्यूमेंट्स भी सबमिट करें।
    4. बीमा कम्पनी सम्बन्धित अस्पताल में एक प्राधिकरण पत्र भेजेगा।
    5. बीमा कम्पनी सभी मेडिकल बिलों का भुगतान सीधे अस्पताल को कर देगा।

प्रतिपूर्ति दावा प्रक्रिया

  1. निर्धारित समय सीमा के भीतर कम्पनी को सूचित करें।
  2. मूल डिस्चार्ज पेपर और मेडिकल बिल एकत्र करें।
  3. क्लेम फार्म लें तथा इसे विधिवत भरकत सभी मेडिकल बिल, डिस्चार्ज पेपर आदि के साथ जमा करें।
  4. आईडी प्रूफ और कैसिंल चेक के साथ सभी डाक्यूमेंट्स को जमा करें।
  5. बीमा कम्पनी सभी दस्तावेजों का चेक करेगी तथा प्रतिपूर्ति प्रक्रिया शुरु कर देगी।
  6. प्रक्रिया समाप्त होने पर आपके खाते में धनराशि प्राप्त हो जायेगी।

हेल्थ इन्श्योरेन्श के लाभ | Benefits Health Insurance in Hindi

  • गंभीर अथवा छोटी बीमारियों का नकदहीन इलाज, भुगतान बीमा कंपनी द्वारा।
  • बीमाधारक को अस्पताल में भर्ती होने से पूर्व तथा बाद के होने वाले खर्च को बीमा कंपनी वहन करती है।
  • अस्पताल आने तथा जाने हेतु एम्बुलेंस का खर्च बीमाकर्ता द्वारा संभाला जाता है।
  • कोई भी दावा न करने पर बीमा कंपनियाँ आपको बोनस देती है जिसका लाभ प्रीमियम भुगतान या पालिसी रिन्यू के समय लिया जा सकता है।
  • बीमार न होने पर भी आप मेडिकल चेक अप सुविधा का लाभ उठा सकते है।

क्या आपकी हेल्थ इन्शुरन्स पालिसी कोरोनावायरस (कोविड-19) के इलाज को कवर करता है?

हाँ, IRDAI के मुताबित बीमाकर्ता कोरोनावायरस के कवरेज के दावे को टाल नही सकते है, क्योंकि यह एक नई बीमारी है इससे पूर्व में कोई भी बीमाधारक इस बीमारी से जूझ नही रहे थे।

हालाँकि, यह पीपीई किट, मास्क, आक्सीमीटर, वेटींलेटर आदि जैसी वस्तुओं की सेवाओं हेतु खर्च नही वहन करती है। आप इस बारे में बीमाकर्ता से अधिक जानकारी प्राप्त करें।

आपके हेल्थ इन्शुरन्स में निम्न उपचार आमतौर पर शामिल नही होते

  • पहले से मौजूद बीमारियों का इलाज
  • सामान्य गर्भावस्था और प्रसव 
  • अंग प्रत्यारोपण
  • कास्मेटिक सर्जरी 
  • युध्द, आतंकवाद, परमाणु हमला, आत्महत्या से होने वाली क्षति 
  • दाँत या आँख की सर्जरी
  • गैर एलोपैथिक उपचार
  • विदेश मेे चिकित्सा
  • उपचार के बाद देखभाल की प्रक्रिया
  • सामान्य बीमारियाँ

स्वास्थय बीमा कैसे लें | How to Get Health Insurance in Hindi

health-insurance-in-hindi
img source: canva

स्वास्थय बीमा आप ऑनलाइन तथा आफलाइन दोनो ही तरीको से खरीद सकते है। ऑनलाइन प्रक्रिया तुरन्त, घर बैठे, पारदर्शी तरीके से हो जाती है जबकि आफलाइन प्रक्रिया किसी एजेंट के द्वारा करायी जाती है।

स्वास्थय बीमा ऑनलाइन कैसे लें?(Health Insurance in Hindi)

  • बहुत से ऑनलाइन प्लैटफार्म जैसे digit, phonepe, बैंक आदि अपने प्लैटफार्म पर आकर्षक दामों पर हेल्थ इन्शुरन्स प्रदान करते है।
  • यहाँ पर आप अपनी जरूरत के हिसाब से हेल्थ प्लान देख सकते है और उनकी टर्म्स एण्ड कंडीशन्स पढ़ने के बाद आप इसे ऑनलाइन ही खरीद भी सकते है।
  • आप विभिन्न प्रकार के स्वास्थ्य बीमाओं की तुलना भी कर सकते है।
  • ऑनलाइन हेल्थ इन्शुरन्स प्लान सस्ते भी होते है क्योंकि इसमें कोई मीडियेटर नही होता है, साथ ही साथ आपके समय की भी बचत होती है।
  • यहाँ से स्वास्थ्य बीमा लेने पर कोई मेडिकल टेस्ट नहीं होता है और न ही ज्यादा पेपरवर्क का झंझट होता है।

स्वास्थय बीमा आफलाइन कैसे लें?

कोई हेल्थ इन्शुरन्स आफलाइन तरीके से लेने के लिए आपको एक एजेंट के पास जाना होगा, वह आपको उसके पास उपलब्ध प्लान्स बताता है। इन इन्शुरन्स की खरीद में कुछ समय लगता है क्योंकि एजेंट जब आफिस जाकर डाक्यूमेंट्स जमा करता है तब आपकी पालिसी चालू हो जाती है।

हेल्थ इन्शुरन्स पालिसी ख़रीदते समय हमें क्या देखना चाहिए?

(Health Insurance in Hindi )आप चाहे किसी भी मेडिकल हेल्थ इन्शुरन्स प्लान को खरीदने जा रहे हो, आपका सिर्फ़ एक ही मकसद होना चाहिए, वो है बीमारी या इमरजेंसी के समय आपको बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएँ कम से कम ख़र्च में आसानी से उपलब्ध हो सकें। ऐसे में किसी भी प्लान को लेते समय आपको उसके कवरेज़ और दिए जाने वाले लाभ को ज़रूर ध्यान में रखना चाहिए।

इस बात पर ध्यान दें कि आपका हेल्थ इन्शुरन्स पालिसी क्या-क्या कवर करता है (हेल्थ चेकअप से लेकर, डायग्नोसिस, सर्ज़री, मैटर्निटी आदि)। इसके साथ ही हेल्थ इन्शुरन्स कंपनी द्वारा आपको और क्या-क्या सुविधाएँ दी जा रही है इस पर भी ध्यान दें। जैसे कि उस कंपनी द्वारा कितने हॉस्पिटलों में सुविधा प्रदान की जा रही है, उनकी क्लेम प्रक्रिया कैसी है, ओपीडी खर्चे कवर हैं या नहीं, मिलने वाला कैश कितना है इत्यादि।

इन्शुरन्स (Health Insurance in Hindi) खरीदने से पूर्व इन बातों पर ध्यान दें?

  • आपको अपना हेल्थ इन्शुरन्स जल्द से जल्द करा लेना चाहिए।
  • अपने हेल्थ इन्शुरन्स में क्रिटिकल बीमारी का कवर जरूर लें।
  • अगर अभी आपकी शादी नही हुई है तो हेल्थ इन्शुरन्स में मैटर्निटी कवर को भी जरूर रखें।
  • अगर आप परिवार के सभी सदस्यों के लिए स्वास्थय बीमा ले रहे है तो प्रीमियम की राशि अधिक रखें।
  • यदि आपके पास फ्लोटर प्लान है, तो पुनःलाभ के साथ वाला प्लान ‘सम इंश्योर्ड रीफिल बेनेफिट’ चुनें।
  • सभी लाभों को पाने की वेटिंग अवधि अवश्य जांच लें। 
  • हेल्थ इन्शुरन्स कंपनी का कितने हॉस्पिटल के साथ टाईअप है व कितनी सेवाओं का लाभ वहाँ आपको मिल सकता है, इस पर जरूर ध्यान दें।
  • अपने प्लान में ध्यान दें कि उसमें घुटने की सर्ज़री और ट्रांसप्लांट जैसे साधारण बीमारियों के लिए कोई कवर अप प्लान है या नहीं!
  • हेल्थ इन्शुरन्स में दिये जा रहे लाभों की सब-लिमिट पता करें।

सही हेल्थ इन्शुरन्स प्लान कैसे चुनें?(Health Insurance in Hindi)

  • हेल्थ इन्शुरन्स प्लान खरीदने से पहले विभिन्न इन्शुरन्स कंपनी की सुविधाओं की तुलना की जाती है, सभी प्रकार के लाभों को भली भाँति समझते हुए, उनके टर्म्स एण्ड कंडीशन्स भी जान लेने चाहिए।
  • पालिसी के तहत सम इंश्योर्ड और ऐड-आन-फीचर के बारे में जान लें।
  • स्वास्थय बीमा अपनी उम्र और जरूरत के हिसाब से लें।
  • अपने प्लान में शामिल हास्पिटल्स के नेटवर्क को देंखे और जाँच ले कि वे हास्पिटल अच्छा इलाज करते है या नही।
  • सेटलमेंट प्रासेस जान ले, क्या है, कैसे किया जाता है।
  • पालिसी में क्या कवर है और क्या नही, यह सुनिश्चत कर लेना चाहिए।
  • हास्पिटल के कमरे के किराये, डाक्टर की फीस और मेडिकल टेस्ट आदि पर सब-लिमिट जरूर चेक करें।

ये भी पढ़े – Life Insurance Kya hai

तो, दोस्तो आपको इस लेख के द्वारा Health Insurance in Hindi में काफी कुछ जानने को मिला जैसे Health Insurance kya hai, Health Insurance ke fayde आदि। इस अति महत्वपूर्ण जानकारी को अपने दोस्तो के साथ जरूर शेयर करे, किसी प्रश्न के लिए कमेंट करें।

Health Insurance in Hindi: FAQs

हेल्थ इंश्योरेन्स क्या है और क्यों जरूरी है?

हेल्थ इंश्योरेन्स बीमाधारक को आपात चिकित्सा में आर्थिक मदद करता है। एक हेल्थ इंश्योरेन्स अचानक से आयी विपदा में आर्थिक मदद करता जिससे बीमित व्यक्ति को सही समय पर अच्छा उपचार मिल पाता है।

हेल्थ इंश्योरेन्स कितने का होता है?

हेल्थ इंश्योरेन्स अलग- अलग बेनिफिट्स के अनुसार अलग- अलग कीमत का होता है। अगर न्यूनतम प्रीमियम की बात करें तो यह 240 रूपये प्रतिमहीने से शुरू होता है, जिसमें अस्पताल में भर्ती होने से लेकर अन्य कई प्रकार के फायदे शामिल हैं।

सबसे अच्छा हेल्थ इंश्योरेंस कौन सा है?

कोई भी हेल्थ इंश्योरेन्स जो आपकी सभी मेडिकल जरूरतो को पूरा करने का दावा करता हो, वह आपके लिए उचित होगा। इंश्योरेंस में क्या Included है और क्या Excluded है यह जरूर जाने, नियम व शर्तों को समझकर ही कोई पालिसी खरीदें।

क्या धूम्रपान स्वास्थ्य बीमा प्रीमियम को प्रभावित करता है?

यदि आप धूम्रपान करते हैं तो आपको अधिक बीमा प्रीमियम का भुगतान करना पड़ेगा क्योंकि आपको चिकित्सा का अधिक जोखिम रहता है।

स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में स्वास्थ्य बीमा कितना महत्वपूर्ण है?

एक स्वास्थ्य बीमा आपके शरीर की अच्छी देखभाल में मदद करता है, समय- समय पर टेस्ट आदि से आप गंभीर बीमारियों से बचते हैं। इसमें बीमित व्यक्ति का इलाज अच्छे अस्पतालों में बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं के साथ होता है, जिससे बेहतर स्वास्थ्य परिणाम देखे जा सकते हैं।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 4.6 / 5. Vote count: 60

No votes so far! Be the first to rate this post.

Leave a Reply

Your email address will not be published.