National Savings Certificate 2022 | नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट (NSC): आवेदन कैसे करें?

एक अच्छे और सुनहरे भविष्य के लिए निवेश करना जरूरी माना जाता है। लोग निवेश के नए और आकर्षक तरीके अक्सर ढ़ूढते रहते है जहाँ पैसा भी सुरक्षित रहे और रिटर्न्स भी अच्छे मिल सके। भारतीय पोस्ट ऑफिस भी कई तरह की स्कीम लाता रहता है उनमें से एक है National Savings Certificate।

National Savings Certificate क्या है?

National Savings Certificate क्या है?
img source: canva

National Savings Certificate भारत सरकार की गारन्टीड इनकम इनवेस्टमेंट स्कीम है जो पोस्ट आफिस द्वारा संचालित की जाती है। यह एक टैक्स बचत निवेश है, जिसमें काफी कम जोखिम और निश्चित मुनाफा होता है। यह एक तरह के सेविंग बान्ड होते है जो कि निवेशको को दिये जाते है।

नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट 5 सालों की लघु बचत योजना है। जिसमें टैक्स में छूट के साथ अच्छी ब्याज दर मिलती है। यह भारत सरकार द्वारा समर्थित होने की वजह इसमें निवेश पर Low Risk होता है। इसमें निवेश एक फिक्स मूल्य का होता है और ब्याज सालाना कंपाउड होता रहता है।

NSC in e-mode: कागजों की बचत तथा गुणवत्तापूर्वक कार्य हेतु, अब मुद्रित किया हुआ कागजी सर्टिफिकेट बन्द हो चुका है। अगर आप NSC (राष्ट्रीय बचत प्रमाण पत्र) खरीदना है तो आपको नेट बैकिंग के द्वारा इसे इलेक्ट्रानिक मोड (e-mode) में खरीदना होगा। जब तक यह सिस्टम पूर्णतया लागू नही होता तब तक आप कागजी NSC पुराने तरीकों से ही खरीदेंगे।

NSC Interest Rate 2022-23

NSC Interest Rate 2022-23
img source: canva

post office national savings certificate पर अभी सालाना 6.8% की दर से ब्याज मिल रहा है। यह समय समय पर बदलता रहता है। इस ब्याज को आप निकाल नही सकते, यह पुनः निवेशित हो जाता है और मैच्योरिटी के बाद आपको पूरी धनराशि ब्याज के साथ मिलती है। इस स्कीम का फायदा यह भी है कि ब्याज दर, सर्टिफिकेट खरीद के बाद, पूरी अवधि के दौरान एक समान रहती है।

NSC पर निवेश

राष्ट्रीय बचत पत्र यानि NSC में न्यूनतम निवेश 1000 रूपये किया जा सकता है इससे अधिक के निवेश 100 के गुणज में किये जा सकते है। इस स्कीम में अधिकतम निवेश की कोई सीमा नही है। यह निवेश 5 वर्षो तक रहता है।

National Savings Certificate पर इनकम टैक्स छूट | NSC Tax Benefits

National Savings Certificate पर इनकम टैक्स छूट | NSC Tax Benefits
img source: canva

अगर आप एनएससी स्कीम में निवेश करते है तो आपको इनकम टैक्स की धारा 80C के तहत प्रतिवर्ष 1.5 लाख रूपये तक के निवेश पर टैक्स में छूट मिलती है। इससे अधिक के निवेश पर कुल आय से टैक्स की राशि काट ली जाती है। 

NSC स्कीम के तहत अर्जित सालाना ब्याज राशि को पुनः निवेशित माना जाता है और वह 1.5 लाख की कर सीमा के अंतर्गत आ सकता है। इस स्कीम के अंतिम वर्ष यानि मैच्योरिटी पर प्राप्त राशि को दोबारा निवेश नहीं किया जा सकता है तथा ब्याज की राशि को लाभार्थी की आय में जोड़ा जाता है।

NSC अकाउंट के प्रकार

NSC अकाउंट डाकघर से खुलवाये जाते है जो कि तीन प्रकार के होते है।

  1. Single holder Type NSC: यह अकाउंट किसी एक व्यक्ति के नाम पर होता है, इसे नाबालिग के नाम पर उनके अभिभावको द्वारा खोला जा सकता है।
  2. Joint A type NSC: यह अकाउंट किन्ही तीन अथवा दो व्यक्तियों के नाम पर होता है। ये दो / तीन लोग कोई भी हो सकते है जैसे पति- पत्नी, भाई- भाई, पिता पुत्र, दो दोस्त आदि। इस अकाउंट में मैच्योरिटी पर मिलने वाली धनराशि बराबर बराबर दोनो अकाउंट धारको को मिलती है।
  3. Joint B type NSC: यह अकाउंट भी तीन अथवा दो व्यक्तियों के नाम पर होता है। इसमें अंतर सिर्फ यह है कि मैच्योरिटी पर मिलने वाली धनराशि सिर्फ एक व्यक्ति को ही मिलती है। जिसका निर्धारण अकाउंट खोलते वक्त किया जाता है।

National Savings Certificate में आवेदन हेतु पात्रता

  • कोई भी भारतीय नागरिक NSC में निवेश कर सकता है।
  • ट्रस्ट और हिंदू अविभाजित परिवार (HUF) NSC में निवेश नही कर सकते हैं। HUF के कर्ता अपने नाम पर NSC में निवेश कर सकते है।
  • कोई गैर भारतीय नागरिक (NRI) इस स्कीम के लिए पात्र नहीं है परन्तु यदि कोई भारतीय नागरिक स्कीम में निवेश करने के बाद NRI हो जाता है तो वह मैच्योरिटी तक इस स्कीम को चला सकता है।

National Savings Certificate (nsc) कैसे खरीदें?

National Savings Certificate (nsc) कैसे खरीदें?
img source: canva

National Savings Certificate (nsc) किसी भी पोस्ट आफिस या हेड पोस्ट आफिस से खरीदे जा सकते है। कुछ समय पहले बैंको को भी NSC बेचने की इजाजत दे दी गयी है। CBS सिस्टम के तहत अब national savings certificate online ही बेचे जायेंगे परन्तु जब तक यह सिस्टम चालू नही होता आपको पोस्ट आफिस जाकर ही NSC खरीदने होगें।

National Savings Certificate Online Application | नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट ऑनलाइन एप्लीकेशन

  • NSC अकाउंट को आनलाइन (national savings certificate online) पूर्णतया नही खोला जा सकता है। आप पोस्ट आफिस की आफिशियल वेबसाइट पर जाकर अकाउंट खोलने का फार्म आनलाइन डाउनलोड कर सकते है।
  • एनएससी अकांउट खोलने हेतु फार्म यहाँ से डाउनलोड करें —> क्लिक करें। यह फार्म पोस्ट आफिस से भी लिये जा सकते है।
  • फार्म को ध्यानपूर्वक भरें तथा KYC डाक्यूमेन्टस के साथ पोस्ट आफिस में जमा करें। 
  • नगद अथवा चेक के माध्यम से निवेश की राशि का भुगतान करें।
  • खरीद पूरी होने के बाद, पत्र को डाकघर से प्राप्त करें।

एनएससी अकाउंट हेतु आवश्यक दस्तावेज़

निम्नलिखित दस्तावेजों को किसी भी भारतीय डाकघर में जमा करके NSC की ख़रीद की जा सकती है।

  • NSC आवेदन फॉर्म (पूर्णतया भरा हुआ)
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • पहचान प्रमाण पत्र – आधार,पैन इत्यादि
  • निवास प्रमाण पत्र– आधार, मतदाता पहचान पत्र, आदि
  • नकद/चेक के रूप में निवेश की जाने वाली राशि

क्या NSC स्कीम में मैच्योरिटी से पहले निकासी कर सकते है?

एनएससी स्कीम के तहत किये गये निवेश को मैच्योरिटी (5 वर्ष) से पहले नही निकाला जा सकता है। लेकिन, कुछ विशेष परिस्थियों में इसे समय से पहले निकाल सकते है।

  • एकल खाताधारक (single account holder) की मौत हो जाने पर
  • संयुक्त खाताधारक (Joint account holder) की मौत हो जाने पर
  • अदालत (Court) की ओर से आदेश जारी होने पर
  • जब्तीकरण (forfeiture) की प्रक्रिया में, सिर्फ गजटेड अफसर द्वारा

National Savings Certificate पर Loan

National Savings Certificate पर Loan
img source: canva

आप national savings scheme मे निवेश के बाद मिले प्रमाण पत्र के बदले Loan प्राप्त कर सकते है। जिसकी जानकारी निम्न प्रकार है।

  • Loan सिर्फ भारतीय निवासियों को राष्ट्रीय बचत प्रमाण पत्र के बदले मिलता है।
  • यह लोन कुछ राष्ट्रीयकृत बैंको द्वारा ही दिया जाता है।
  • लोन की समय सीमा NSC की मैच्योरिटी सीमा की शेष अवधि के बराबर होती है।
  • इस लोन पर ब्याज की दर अलग- अलग बैंको में अलग- अलग होती है, यह आवेदक पर भी निर्भर करती है।

National Savings Certificate के फायदे

NSC 5 साल की एक बेहतरीन बचत योजना है जो मुख्यतः पोस्ट आफिस द्वारा उपलब्ध करायी जाती है। इसके मुख्य फायदे इस प्रकार हैं–

  • आप एनएससी सिर्फ 1000 रूपये में खरीद सकते है और इसमें अधिकतम निवेश की कोई सीमा नही है।
  • इस स्कीम में बैंक बचत खाता, एफडी से ज्यादा ब्याज मिलता है।
  • एक बार खरीदे गये नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट की ब्याज दर मैच्योरिटी तक एक समान रहती है।
  • एनएससी सर्टिफिकेट के बदले आप Loan के लिए भी आवेदन कर सकते है।
  • एक व्यक्ति अपने नाम पर कितने भी NSC Certificate ले सकता है।
  • NSC दूसरे व्यक्ति के नाम पर ट्रांसफर किये जा सकते है।
  • इसमें नामिनी बनाने की सुविधा भी उपलब्ध है।

दोस्तो, आशा करता हूँ post office national savings certificate का यह लेख आपको काफी पंसद आया होगा। इस जानकारी भरे national savings scheme के लेख को अपने दोस्तों के साथ जरूर साझा करें।

National Savings Certificate: FAQs

नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट योजना क्या है?

नेशनल सेविंग सर्टिफेकेट भारत सरकार की ओर से पोस्ट ऑफिस द्वारा संचालित लघु बचत योजना है। इसमें आपको एक निश्चित मूल्य वाले सर्टिफिकेट बेचें जाते हैं जिसमें कम रिस्क और ज्यादा मुनाफा रहता है।

एनएससी पर कितना ब्याज मिलता है?

एनएससी पर ब्याज दर समय- समय पर बदलती रहती है। वर्तमान समय में इस पर 6.8 फीसदी दर से ब्याज मिल रहा है।

एनएससी का फुल फार्म क्या है?

एनएससी का फुल फार्म है- नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट जिसे हिन्दी में राष्ट्रीय बचत पत्र कहा जाता है।

राष्ट्रीय बचत पत्र कौन जारी करता है?

राष्ट्रीय बचत पत्र भारत सरकार द्वारा जारी किये जाते हैं और पोस्ट ऑफिस इस स्कीम का संचालन करता है।

पोस्ट ऑफिस में ₹ 1000 जमा करने पर 5 साल में कितना मिलेगा?

वर्तमान ब्याज दर 6.8 फीसदी के हिसाब से, 1000 रूपये में 5 साल में 389 रूपये ब्याज मिलेगा। इस प्रकार, 5 साल बाद आपको टोटल 1389 रूपये मिलेंगे।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 5 / 5. Vote count: 2

No votes so far! Be the first to rate this post.

Leave a Reply

Your email address will not be published.