Mutual Fund Kya Hai | Mutual Fund Main Investment Kaise Kare ?

आज के समय में हर व्यक्ति अपने भविष्य के बारे में सतर्क है और उसके लिए पैसा कमाता है और बचाता  है।  वो अपने पैसो को बचाना ही नहीं, कही ऐसी जगह पर इन्वेस्ट भी करना चाहता है ताकि उसकी savings बढ़ती रहे।

ऐसे में जो एक option लोगो को दिखता है वो है शेयर मार्केट।  शेयर मार्केट आपको कई तरह के विकल्प देता हैं जहाँ आप अपना पैसा invest कर सकते हैं और पैसा कमा सकते है।  उन्ही विकल्पों में से एक है, Mutual Funds। अगर आप कम से कम risk वाली जगह पर अपना पैसा लगाना चाहते है, तो म्यूच्यूअल फंड्स एक अच्छा तरीका है।

लेकिन क्या आप जानते है Mutual Funds kya hai? ये जरुरी है की किसी भी चीज़ में अपना पैसा लगाने से पहले आप उसके बारे में सब कुछ जाने।  बहुत से लोगो ने mutual funds के बारे में सुना  तो होगा, पर  उन्हें  ये  नहीं  पता  की  वास्तव  में  ये  होता  क्या  है? इस  पोस्ट  में  आप  जानेंगे  की  Mutual Fund के बारे में, Mutual Fund main investment kaise kare, इसके फायदे क्या  है , और  भी  बहुत  कुछ।  तो  आइये  शुरू  करते  हैं। 

Mutual Funds Kya Hai?

Mutual Funds Kya Hai?
img source : canva

आसान  शब्दों  में  कहे  तो , कई  निवेशकों  द्वारा   जमा  की  गयी  पूंजी  को  म्यूच्यूअल  फंड्स  कहते  है।  निवेशकों  का  ये  पैसा  एक  साथ किसी  एक  फण्ड  में  डाल  दिया  जाता  है , जिसे  mutual fund investment कहते  है।  

म्यूचुअल फंड पेशेवर फंड मैनेजरों द्वारा संचालित क़िये  जाते  हैं  जो फंड में  जमा  पूंजी  को  अलग  अलग  हिस्सों में  बांटकर  विभिन्न   वित्तीय  साधनों  जैसे की  stocks, bonds, commodity, और  दूसरे  assets में  निवेश  करते  हैं  और फंड के निवेशकों के लिए लाभ या आय बढ़ने का प्रयास करते हैं। पैसा  निवेश  करने  के  बदले में, वे  निवेशकों को Profit के रूप में उनके  जमा  क़िये  हुए  धन का एक हिस्सा देते  है। 

म्यूचुअल फंड खासकर  की  उन  छोटे निवेशकों के  लिए  लाभदायक  है  जिन्हे  शेयर  मार्केट  की  ज्यादा  जानकारी  नहीं  हैं  और  जो  कम  रिस्क  में  अपना  पैसा  invest करना  चाहते  हैं।  उन्हें  एक्सपर्ट्स  द्वारा  बनाये  गए  shares, bonds, और  अन्य securities के  पोर्टफोलियो में निवेश  करने  का  मौका मिलता  है।  निवेशकों को  उनके  पैसे के बदले  में यूनिट प्रदान  की  जाती  है  और  इस  यूनिट को NAV कहते  हैं ।  

NAV (Net Asset value) क्या होता है?

Net Asset Value
img source: canva

NAV  यानि Net Asset Value। म्यूच्यूअल फण्ड की एक यूनिट की कीमत को नेट एसेट वैल्यू NAV कहते है। म्यूच्यूअल  फंड का NAV पोर्टफोलियो में securities की total value को यूनिटों की total संख्या से भाग दिया जाता है।  उसके बाद जो value आती है, उसे NAV कहते है। आसान भाषा में कहे तो जैसे एक शेयर की कीमत होती है, वैसे ही NAV एक म्यूचुअल फंड unit की कीमत है जिस वैल्यू पर आप एक म्यूच्यूअल फण्ड की यूनिट खरीद या बेच सकते है। 

इसमें  हर  निवेशक फंड के लाभ या हानि का  अपने  इन्वेस्टमेंट  के  अनुपात के  हिसाब  से  भागीदार होता है। आमतौर  पर  म्यूचुअल फंड के  प्रदर्शन को कुल AMU यानी एसेट अंडर मेनेजमेंट में जो  बदलाव आता  है , उसके  हिसाब  से  मापा जाता है।

फंड मैनेजर कौन  है?

आपका  म्यूच्यूअल  फण्ड  इन्वेस्टमेंट  एक  पेशेवर व्यक्ति द्वारा संचालित  किया जाता है जिसे  फंड मैनेजर या Professional फण्ड  मैनेजर  कहते  है । इन  फण्ड  मैनजरों  का  काम  म्यूच्यूअल  फण्ड  को  संभालना  और  आपके  पैसे  को  सही  जगह  पर  निवेश  करना  होता  है , ताकि  निवेशकों  को  कम  से  कम  रिस्क  में  ज्यादा  से  ज्यादा  मुनाफा  हो . 

Mutual Funds के  फायदे 

Mutual Funds के  फायदे 
img source: canva

व्यावसायिक प्रबंधन 

म्यूच्यूअल  फंड्स  में आपके  द्वारा  निवेश  किया  गया  पैसा , पेशेवर  फण्ड  मैनजरों  द्वारा  संचालित  किया  जाता है।  उनके पास इस  काम  की  जानकारी  और  अनुभव,  दोनों  होता  है।  

विविधीकरण 

म्यूच्यूअल  फण्ड  में  आपका  पैसा  किसी  एक  ही  security में invest नहीं  किया  जाता  है।  आपका  पैसा  एक ही  जगह  ना  लगाकर  अलग  अलग जगह  invest किया  जाता  है , ताकि  आपकी investment की  रिस्क  को  कम  किया  जा  सके।   विविधीकरण करने  से  अगर  आपके  किसी भी एक  निवेश में हानि होती  है  तो दूसरे  निवेश  में  हुए  लाभ  से  आपके  नुक्सान  को  कम  किया  जा  सकता  है . 

सरलता 

आप  म्यूच्यूअल  फंड्स  में  आसानी  से  invest कर  सकते  है  और  जब  चाहे  तब  अपना  पैसा  उसमे  से  वापस  निकाल  सकते   हैं।  इसका  procedure बहुत  ही  आसान  है।  आपको  सिर्फ  एक  form भरना  होता  है , जो  की  online या  offline, दोनों  तरीके  से  प्राप्त  किया  जा  सकता  है।  

Mutual Fund Main Investment Kaise Kare? 

Mutual Fund mein  Investment kaise kre? 
img source: canva

म्यूच्यूअल  फण्ड  में  invest करने  के  दो  तरीके  होते  है।  पहला  है  online तरीका  और  दूसरा  है  offline तरीका।  लेकिन  बेहतर  होगा  की  निवेश  करने  से  पहले  निवेशक  ये  निश्चिंत  कर ले  की  उन्हें  किस  Asset Management Company की  किस  योजना  में invest करना  है।  

ऑनलाइन(Online) तरीका

Mutual fund में online investment करने  के  लिए  आप एक  Online Asset management company (AMC) की  services का  उपयोग  कर  सकते  है।  किसी Bank या  AMC की वेबसाइट  पर  जाकर  रेजिस्टर  करे। रजिस्ट्रेशन फॉर्म  में आपको  अपना  फोलियो नंबर , मोबाइल  नंबर , ईमेल , इत्यादि  जानकारी  भरनी  होगी।  जैसे  ही  रजिस्ट्रेशन  process पूरी  होगी , आपको  एक  user id और  password मिल  जायेगा। आप  ये  user id और  password की  मदद  से  login करके  अपना  investment कर  सकते  है। 

ऑफलाइन (Offline) तरीका

इसमें  आप  अपने  पास  के  ही  किसी  बैंक  में  जाकर  या  किसी  ब्रोकर  की  मदद  से  जरुरी  फॉर्म  भर  sakte है।  इसके  बाद  आपको  एक  फोलियो  नंबर  और  अकाउंट  स्टेटमेंट  मिलेगा  जिससे  की  आप  अपना  offline investment शुरू  कर  सकते है।  

SIP kya hai?

Mutual fund में सही  तरीके  से  invest करने  के  लिए  आपको  SIP यानि  की  Systematic Investment Plan की  जरुरत  हैं।  SIP में  एक  व्यवस्थित तरीके  से  निवेश किया  जाता  है।  इसमें  आप  अपनी  बचत  में  से  एक  निश्चित अन्तराल से  अपने  म्यूच्यूअल  फण्ड  में  निवेश कर सकते है . SIP के  अंतर्गत  आपकी  म्यूच्यूअल  फण्ड  SIP स्कीम  को  आपके  बैंक  खाते  से  जोड़ दिया  जाता  है।  इससे  हर  महीने  की  एक  निश्चित  तारीख को  आपके  बैंक  खाते  से  एक  निश्चित  राशि  आपकी  म्यूच्यूअल  फण्ड  स्कीम  में  ट्रांसफर  हो  जाती  है।  SIP छोटे  निवेशकों  के  लिए  बहुत  फायदेमंद  है  क्यूंकि  उनको  एक  साथ  बड़ा अमाउंट invest करने  की  जरुरत  नहीं  होती।  वे  हर  महीने  एक  निश्चित  राशि  अपने  बचत  के  आधार  पर  निवेश कर सकते है ! SIP में  आप  अपनी  जरुरत  के  हिसाब  से  राशि  को  निकाल  भी  सकते  हैं।  

म्यूच्यूअल फण्ड के प्रकार

आमतौर पर म्यूच्यूअल  फण्ड को 3 भागों में बाँटा  जाता है, ‘based on maturity ‘ और  ‘based on investment objectives ‘ and ‘based on market capitalization’- 

Based  on Market capitalization 

इसमें म्यूच्यूअल फंड्स को कंपनी के मार्केट कैपिटलाइजेशन (Market Capitalization ) के आधार पर बांटा जाता है।  Market capitalization का सीधे शब्दों में कहे तो ये एक कंपनी के कुल शेयरों का बाजार मूल्य होता है।  इसकी वैल्यू निकलने के लिए आपको कंपनी की कुल शेयरों का गुणा एक शेयर की current मार्किट प्राइस (market price) से करना होगा। मार्केट कैपिटलाइजेशन से एक कंपनी की साइज का अनुमान लगा सकते है। मार्केट कैपिटलाइजेशन की मदद से निवेशक कंपनी के रिस्क, return, growth इत्यादि के बारे में अंदाजा लगा के निवेश के बारे में decision ले सकते है।  म्यूच्यूअल फंड्स, मार्केट कैपिटलाइजेशन के आधार पर –

1. लार्ज कैप फंड (Large Cap Fund)

ये वो म्यूच्यूअल फण्ड होते है जिसमे वे companies होती है जिनका market capitalization 20000 करोड़ रुपये से जयादा होता है। Large cap fund में रिटर्न बाकी फंड्स के comparison में कम होता  है। लेकिन इसमें रिस्क कम होता है। 

2. मिड कैप फंड (Mid Cap Funds)

इन म्यूच्यूअल फंड्स में वे companies होती है जिनकी मार्केट कैप value 5000 करोड़ से ज्यादा होती है और 20000 करोड़ से कम। ये फण्ड  लार्ज कैप की तुलना में ज्यादा return दे सकते है। इसमें स्मॉल कैप (Small cap)  से कम रिस्क होती है।  

3. स्मॉल कैप फंड (Small Cap Funds)

स्मॉल कैप म्यूच्यूअल फंड्स में वे कंपनिया शामिल होती है जिनका मार्केट कैप 5000 करोड़ से कम होता है। इसमें रिस्क ज्यादा होती है पर return भी ज्यादा मिलने की सम्भावना रहती है । 

4. मल्टी कैप फंड (Multi Cap Funds)

ये म्यूच्यूअल फंड्स में अलग अलग प्रकार के stocks में invest करते है। मल्टी कैप फंड में लार्ज, मिड, और स्माल कैप, तीनो प्रकार की कंपनियों में एक निश्चित ratio में निवेश किया जाता है। 

Based on Maturity

इसमें  तीन  प्रकार  के  फण्ड  होते  है –

Open Ended Fund

इन  फंड्स  में  आप  जब  चाहे  तब  invest  कर  सकते  है  और  जब  चाहे  इसमें  से  बहार  निकाल  सकते  है। 

Close-Ended Fund

इन  फंड्स  में  आप  एक  निर्धारित  समय  सीमा  में  ही  invest कर  सकते  है।  इनका  एक  maturity period होता  है  और  एक  बार  आपने  इसमें  invest कर  दिया  तो , maturity period ख़तम  होने  के  बाद  ही  इसमें  से पैसा  निकाल  सकते  है।  

Interval Fund

ये  Open ended और Close ended फण्ड  से  मिलकर  बना  है।  ये  फंड्स  स्टॉक  एक्सचेंज में  listed होते  हैं  जहाँ  से  आप  इन्हे  खरीद  और  बेच  सकते  है।  

Based on Investment Objectives

Equity Fund 

इस  फण्ड  में  निवेशक  का  ज्यादातर  पैसा  equity shares में invest किया  जाता  है । इसमें  रिस्क  जयादा  होती  है। लेकिन  लम्बी  अवधी  में  ये  आपको  अच्छा return कमाके दे  सकते  है। 

Debt Funds 

इस  फण्ड  में  निवेशकों का  ज्यादातर  पैसा  bonds, Government securities या non-convertible debentures में लगाया जाता है। इसमें  रिस्क  नहीं  हैं  और  निवेशकों का पैसा सुरक्षित रहता है। आमतौर  पर  Equity Fund के  comparison में  Debt fund में  return कम  होता  है। 

Balanced fund 

यह फण्ड Equity और Debt फण्ड से  मिलकर  बना  है।  इसमें  निवेशको का आधा पैसा Equity में और आधा  debt फण्ड में invest किया  जाता है।

ये  म्यूच्यूअल  फंड्स  के  कुछ  प्रकार  है  जिसमे  आप  इन्वेस्टमेंट  कर  सकते  है। 

उम्मीद  करते  हैं  की  ऊपर  दी  गयी  जानकारी Mutual Fund Kya Hai से  आपको   म्यूच्यूअल  फण्ड  को समझने  में  मदद  मिलेंगी।  कोई  भी  इन्वेस्टमेंट  करने  से  पहले  पूरी  तरह  से  research कर  ले  और  तभी  कोई  निर्णय  ले।  जल्दीबाजी ना  करें  और  fraud स्कीम्स  से  सावधान  रहे।  

Mutual Fund Kya Hai: FAQs

म्यूच्यूअल फण्ड में कैसे निवेश करें?

म्यूचुअल फण्ड में निवेश के लिए आपको एक डीमैट अकाउंट खुलवाना होगा, फिर उस डीमैट अकाउंट में आप अपने फण्ड खरीद कर रख सकते हैं और समय आने पर बेंच सकते हैं। खरीद फरोख्त के लिए आप किसी ऐप का इस्तेमाल कर सकते हैं या सीधे ब्रोकर से सम्पर्क कर सकते हैं।

म्यूचुअल फंड कितने प्रकार के होते हैं?

आमतौर पर म्यूच्यूअल  फण्ड को 3 भागों में बाँटा  जाता है, जो कि ‘based on maturity ‘ और  ‘based on investment objectives ‘ and ‘based on market capitalization’ है।

म्यूच्यूअल फण्ड क्या है हिंदी में?

म्यूच्यूअल फण्ड एक प्रकार का फण्ड है जिसमें बहुत से निवेशकों का पैसा लगा होता है और यह पैसा एक फण्ड मैनेजर द्वारा मैनेज किया जाता है। मैनेजर निवेशकों के इक्टठा किये गये रूपयों को किसी शेयर, बान्ड आदि में निवेश करते हैं और उससे मिलने वाले लाभ को निवेशकों में उनकी निवेश की रकम के हिसाब से बांट दिया जाता है।

म्यूचुअल फंड में कितना ब्याज मिलता है?

म्यूचुअल फंड पर कितना ब्याज मिलता है ये सही- सही बता पाना मुश्किल है। ब्याज अथवा रिटर्न्स शेयर मार्केट पर निर्भर करते हैं। आमतौर पर म्यूचुअल फण्ड पर 10 से 15 फीसदी ब्याज मिल जाता है, यदि निवेश अच्छी जगह पर किया गया हो।

म्यूचुअल फण्ड निवेश से क्या लाभ है?

म्यूचुअल फण्ड में निवेश पर अधिक ब्याज मिलता है और यह कम पूँजी से शुरू किया जा सकता है। इस पर SIP शुरू कर आप कंपाउडिंग का लाभ ले सकते हैं जो आपको आपके लक्ष्यों तक शीघ्र ही पहुँचा सकता है।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 4.7 / 5. Vote count: 16

No votes so far! Be the first to rate this post.

Leave a Reply

Your email address will not be published.